खदान ढहने से हजारों टन पत्थरों के नीचे दबे मजदूर

दो के शव निकाले, पत्थर हटाने का काम जारी

पाटन (शंकर सैनी)। क्षेत्र के रेला खनन क्षेत्र में शनिवार देर रात दर्दनाक खदान हादसा हो गया। करीब डेढ़ सौ फुट गहरी खदान में नीचे काम कर रहे मजदूरों पर हजारों टन पत्थर ढह कर गिर गये।

जिससे वहां काम कर रहे मजदूर और खनन पत्थरों के नीचे दब गये। जानकारी के अनुसार शनिवार देर रात करीब ग्यारह बजे रेला खनन क्षेत्र की एक खान में मजदूर पोकलेन मशीन से डम्परों में खनिज लोड कर रहे थे।

अचानक करीब सौ फुट उपर से खदान ढह गई। जिससे खदान में मजदूरों को खाना देकर अपनी कैम्पर गाड़ी से वापस आ रहा दलपतपुरा निवासी सुभाष गुर्जर पुत्र यादराम गुर्जर (38) हजारों टन पत्थरों के नीचे दब गया।

वहीं डम्पर में पत्थर भरवा रहा डम्पर चालक भरतपुर की कामां तहसील के बोरखेड़ा गांव निवासी रवि पुत्र ताराचंद भी डम्पर समेत पत्थरों के नीचे दब गया।

पत्थरों के दबाव से पोकलेन मशीन घिसटते हुए दूर चली गई जिससे मशीन चला रहे आपरेटर बाल बाल बच गये। आपरेटरों ने हादसे की सूचना खदान मालिक और प्रशासन को दी।

सूचना मिलते ही नीमकाथाना एसडीएम बृजेश गुप्ता, डीएसपी गिरधारी लाल शर्मा, पाटन तहसीलदार मुनेश कुमार सर्वा, पाटन थानाधिकारी बृजेश सिंह तंवर, खान विभाग के एएमई अमीचंद दुहारिया, एएमई (विजिलेंस) प्रमोद बलवदा, सरपंच प्रतिनिधि कैलाश चंद स्वामी मय पुलिस जाब्ते के मौके पर पहुंचे और तुरंत बचाव कार्य शुरू करवाया। सुबह दस बजे तक दोनों मृतकों के शव खदान से बाहर निकाल लिए गये।

वहीं खदान ढहने से गिरे पत्थरों को हटाने का काम मौके पर जारी है क्योंकि पत्थरों के नीचे किसी ओर मजदूर के दबे होने की आशंका जताई जा रही है।शवों को पाटन अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया। जहां पोस्टमार्टम के बाद मृतक दलपतपुरा के सुभाष का शव परिजनों को सौंप दिया गया।

जबकि रवि के परिजनों के भरतपुर से आने के बाद पोस्टमार्टम करवाया जायेगा।हादसे की सूचना पर पाटन अस्पताल में रविवार सुबह से ही सैकड़ों लोग इक्ट्ठा हो गये। मौके पर खदान मालिक द्वारा दोनों मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने का आश्वासन दिया।

वहीं परिजनों की रिपोर्ट पर पुलिस ने भी हादसे की रिपोर्ट दर्ज कर ली है। खान विभाग के अधिकारियों ने भी खान की सुरक्षा के सम्बन्ध में मौका रिपोर्ट बनाकर खान मालिक पर कार्यवाही शुरू कर दी है। लोगों की मांग पर डीएसपी और एसडीएम ने रेला गांव की खानों की सुरक्षा जांच करवाकर कार्यवाही का आश्वासन दिया है।

You might also like
You cannot print contents of this website.