महिला से दोस्ती महंगी पड़ी पपला गुर्जर को, हुआ गिरफ्तार, गुरु की हत्या का बदला लेने के लिए अपराध की दुनिया में रखा था कदम

जयपुर (जितेंद्र रावत)। राजस्थान व हरियाणा पुलिस की नाक में दम करने वाले मोस्ट वांटेड गैंगस्टर पपला गुर्जर को पकडने में जयपुर रेंज पुलिस को गुरुवार दोपहर सफलता हाथ लगी है। पुलिस टीम ने गैंगस्टर पपला गुर्जर उसकी महिला मित्र जयाउससहर सिगलीगर को महाराष्ट्र के कोल्हापुर से धर दबोचा। पुलिस के साथ ही एटीएस व एसओजी की टीम पपला की तलाश में जुटी थी।

पुलिस महानिदेशक एम.एल.लाठर ने बताया कि पपला उर्फ विक्रम गुर्जर (29) हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले में खैरोली गांव का रहने वाला है। जिसे महाराष्ट्र के कोल्हापुर से गिरफ्तार किया गया है जो उधम सिंह के नाम से एक जिम संचालक महिला के साथ रह रहा था। जिसे बुधवार देर रात पुलिस ने घेराबंदी कर पपला को पकड़ा है। कार्रवाई के दौरान पपला ने तीसरी मंज़िल से छलांग लगाई थी, जिससे वह चोटिल हुआ है।

इस तरह रखा अपराध की दुनिया में कदम
वह पहलवानी का शौक रखता था। इस बीच करीब पांच साल पहले रंजिश में उनके गुरू शक्ति गुर्जर उर्फ दुधिया निवासी खैरोली की कुछ लोगों ने हत्या कर दी थी। अपने गुरू शक्ति गुर्जर की हत्या का बदला लेने की पपला और उसके साथी वीरेंद्र ने कसम खाई। तब पपला ने जुर्म की दुनियां में कदम रखा। पिछले करीब 16 माह से फरार गैगस्टर की तलाश की जा रही थी। आखिरकार जयपुर रेंज पुलिस को गुरुवार को सफलता हाथ लगी। पुलिस टीम ने मोस्ट वांटेड गैंगस्टर पपला उर्फ विक्रम गुर्जर को महाराष्ट्र के कोल्हापुर में धर-दबोचा। इससे पूर्व गिरोह के दो दर्जन से अधिक बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है, इनमें कई ईनामी बदमाश शामिल है।

हरियाणा में फायरिंग कर कोर्ट से भागा

पपला को नारनौल की सीआइए टीम ने 12 फरवरी 2016 को उसके गांव के पास से अवैध हथियारों के साथ गिरफ्तार किया था। चार हत्याओं के आरोप में पपला नसीबपुर जेल में बंद रहा। भारी पुलिस सुरक्षा व्यवस्था के बीच ही उसे जेल से कोर्ट में पेश किया जाता था। 5 सितंबर 2017 को महेंद्रगढ़ की कोर्ट में पेशी के दौरान विक्रम उर्फ पपला को उसके साथी पुलिस गाड़ी से उतरते वक्त फायरिंग कर भगाकर ले गए थे। फायरिंग में चार पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। हरियाणा सरकार की ओर से पपला को मोस्ट वांटेड घोषित किया गया था।

हरियाणा के टॉप पांच गैंगस्टर में आने लगा नाम

हरियाणा में मोस्ट वांटेड पपला की गिरफ्तारी के लिए एक लाख रुपये का ईनाम घोषित किया था। जिसे बाद मे बढ़ाकर पांच लाख रुपए कर दिया गया। राजस्थान पुलिस को चुनौती देने के कारण उसके ऊपर एक लाख रुपये का ईनाम राजस्थान में रखा गया। अपराध की दुनिया में कदम रखने वाले पपला व उसके गिरोह ने उसी के गांव के संदीप उर्फ फौजी, संदीप फौजी की मां बिमला, मामा महेश वासी बिहारीपुर व उसके नाना श्रीराम की हत्या करने का आरोप लगा। हत्या के मुकदमे महेंद्रगढ़ व नारनौल थाने में दर्ज हुए। इसके पहले भी वर्ष 2010 व 2014 में पपला के खिलाफ गवाहों को मारपीट व धमकाने के मुकदमे भी दर्ज हुए। पपला का हरियाणा के टॉप पांच गैंगस्टर में नाम आने लगा।

राजस्थान में फ़ायरिंग कर लॉकअप तोड़कर हुआ फरार राजस्थान के बहरोड़ थाना पुलिस ने गैंगस्टर पपला गुर्जर को 6 सितंबर 2019 को पकड़ा था, जिसके पास करीब 31 लाख रुपये बरामद किए थे। पुलिस प्रारंभिक पूछताछ में पपला ने बहरोड पुलिस को अपना नाम व पता गलत बताया। इसी बीच सुबह 8 बजे तीन चार गाडियों में करीब 15 से 20 बदमाश आए। माना जा रहा है कि एके 47 से बदमाशों ने थाने में ताबड़तोड़ फायरिंग की। इसके बाद लॉकअप को तोड़कर पपला को भगाकर ले गए। राजस्थान पुलिस को चुनौती देने वाले गैंगस्टर ने इसी प्रकार हरियाणा पुलिस को भी चुनौती दी थी।

पुलिस महानिदेशक एम.एल. लाठर ने बताया कि महानिरीक्षक पुलिस जयपुर रेंज डाॅ. हवा सिंह घुमरिया के मार्गदर्शन में इस विशेष टीम का नेतृत्व सिद्धान्त शर्मा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कर रहे थे। टीम में पुलिस अधिकारी जहीर अब्बास, पुलिस निरीक्षक, जिला अलवर, इन्सार अली, पुलिस निरीक्षक, सुनील जांगिड, उप निरीक्षक, जिला भिवाडी, मुकेश वर्मा, उप निरीक्षक, जिला भिवाडी, 16 ई.आर.टी. कमान्डो एवं कुल 26 सदस्य टीम शामिल थी। बैकअप के लिए एक अन्य टीम पुणे, महाराष्ट्र में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र सिंह सिसोदिया के नेतृत्व में उपस्थित थी।

30 अपराधियों को राजस्थान पुलिस अब तक गिरफ्तार कर चुकी है

लाठर ने बताया कि पपला गुर्जर मामले में राजस्थान पुलिस की ओर से विनोद कुमार स्वामी, कैलाश, जगन खटाणा, सुभाष, महिपाल, जीतेन्द्र सिंह उर्फ जीतू, विक्रम सिंह, नरेन्द्र, श्यामसुन्दर उर्फ अशोक, दिनेश उर्फ कालू, अजय कुमार गुर्जर उर्फ बिल्लु, महेन्द्र सिंह उर्फ पप्पू, दीक्षान्त गुर्जर, चन्द्रपाल उर्फ चन्दु, प्रशान्त, आकाश यादव, अशोक कुमार उर्फ मेजर, राहुल उर्फ चुहीवाला, बलवान उर्फ बल्लु, अशोक गुर्जर, सोमदत्त, भूपसिंह उर्फ भूपी, सुनील कुमार, धर्मवीर, रामवीर उर्फ फोरच्यूनर, बलवान उर्फ बल्ली, जिलेसिंह, धर्मसिंह उर्फ निक्की दूधिया, बलवीर, चमन को गिरफ्तार कर चुकी है।

झुंझुनू से जुड़े है तार
गिरफ्तार किए 30 अपराधियों में तीन अपराधियों के तार झुंझुनू जिले से भी जुड़े हुए है। जिनमें कैलाशचंद गुर्जर निवासी गुजरवास, थाना सिंघाना, भूपसिंह उर्फ भूपी गुर्जर निवासी पथाना, थाना पचेरी तथा बलवीर गुर्जर निवासी पथाना, थाना पचेरी के तार झुंझुनू जिले से जुड़े हुए है।

बताया जा रहा है कि पपला गुर्जर भी महाकाल का भक्त है। पिछले साल राजस्थान पुलिस पर हमला करने के फरार होने के बाद पपला गुर्जर ने अपने इंस्टाग्राम आईडी पर यार तेरा फरार से जय महाकाल लिखा हुआ था।

You might also like