दूसरे पक्ष को झूठा फंसाने के लिए दादी ने की थी 03 वर्षीय पोती की जमीन पर सर पटक कर हत्या, दादी गिरफतार

बारां (हिन्द ब्यूरो)। जिले के थाना सदर अंतर्गत बोरीना गांव में 30 मई को हुई 3 वर्षीय मासूम की हत्या उसी की दादी ने की थी। पानी भरने के रास्ते को लेकर चले आ रहे विवाद में दूसरे पक्ष की लड़की के चोटिल हो जाने ओर पुलिस रिपोर्ट होने के डर से उन्हें फंसाने के लिये मासूम की डक़डी कनक बाई पत्नि लटूरलाल मोग्या (50) ने ही जमीन पर जोर से सर पटक कर हत्या की थी। पुलिस ने मामले का खुलासा कर हत्या के आरोप में मासूम बालिका की दादी को हिरासत में ले लिया है।

बारां एसपी विनीत कुमार बंसल ने बताया कि 30 मई की रात सदर थाना क्षेत्र के बोरीना गांव में मोग्या जाति के दो पक्षों में पानी भरने जाने के रास्ते को लेकर विवाद हो गया था, जो बाद में मारपीट में बदल गया। जिसमें दोनों ही पक्षों के लोगों के चोटें आई थी। इसी दौरान एक पक्ष अमरलाल मोग्या की 3 वर्षीय पुत्री की सिर पर चोट आने से मृत्यु हो गई जिसका आरोप दूसरे पक्ष रामेश्वर मोग्या वगैरह पर लगाते हुये अमरलाल मोग्या की पत्नि मीनाक्षी मोग्या ने अपनी पुत्री की हत्या की रिपोर्ट दी। रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की गई।

घटना को गम्भीरता से लेते हुए एएसपी विजय स्वर्णकार के निर्देशन व सीओ मनोज कुमार के सुपरवीजन मे थानाधिकारी सदर रमेश कुमार मीना के नेतृ्त्व में थाना स्तर एवं साईबर सैल बारां की टीम गठित की गई।

 

खुलासाः- गठित विशेष टीम ने स्थानीय विशेष मुखबिरों से प्राप्त सूचनाओं व तकनीकी विष्लेषण की सहायता एवं गहन अनुसंधान से सम्पूर्ण घटनाक्रम से पर्दा उठा दिया। दोनों पक्षों के बीच सरकारी ट्यूबवेल पर पानी भरने जाने वाले रास्ते को लेकर विवाद था। घटना के दिन इसी विवाद को लेकर दोनों पक्षों में मारपीट हुई जिसमें एक पक्ष के रामेश्वर मोग्या की पुत्री के सिर में तथा दूसरे पक्ष अमरलाल मोग्या के भाई धनराज व पिता लटूरलाल के चोटें आई। रामेश्वर मोग्या अपनी चोटिल पुत्री को लेकर रिपोर्ट कराने थाने पर आने लगा तो अमर लाल की मां कनक बाई ने इसका विरोध किया व रिपोर्ट कराने पर परिणाम भुगतने के लिये तैयार रहने की धमकी दी। किन्तु रामेश्वर मोग्या अपनी घायल पुत्री को लेकर वहां से रवाना होने लगा तो उसी दौरान कनक बाई ने अपनी 3 वर्षीय पोती को जमीन पर सिर के बल पछाडकर मार दिया। फिर परिवार के लोग मृत बच्ची को लेकर रामेश्वर मोग्या पक्ष के विरूद्ध रिपोर्ट कराने थाने पर पहुंच गये।

पुलिस की निष्पक्ष जांच से घटना की वास्तविकता का पता चला जिसमे दादी ही पोती की हत्यारी निकली। उसने दूसरे पक्ष रामेष्वर मोग्या को झूठा फसाने की नियत से यह घटना कारित की।

You might also like