नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति दी गई, पम्फलेट बांटकर लोगों को किया जागरूक

कोटा( योगेश जोशी)।  समपार फाटकों को पार करते समय होने वाली दुर्घटनाओं की रोकथाम के लिए संपूर्ण भारतीय रेलवे में जागरूकता दिवस मनाया जा रहा है ।  इसी कड़ी में कोटा मंडल रेल प्रबंधक के मार्गदर्शन में तथा संरक्षा विभाग के नेतृत्व में 13वां  अंतरराष्ट्रीय समपार फाटक जागरूकता दिवस 10 जून को मनाया गया ।  इसके अंतर्गत आमजनता एवं समपार फाटक पार करने वाले सड़क उपयोगकर्ताओं को रेल सुरक्षा एवं स्वयं की रक्षा करने के बारे में नुक्कड़ नाटक के माध्यम से जागरूक किया गया । वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक  अजय कुमार पाल ने बताया कि कोविड-19 के दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए मास्क लगाकर एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सोगरिया स्टेशन के पास स्थित लेवल क्रॉसिंग गेट संख्या 3 पर आज 10 जून को रेलवे की सांस्कृतिक टीम द्वारा नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति दी गई ।  जिसमें समपार फाटक पार करने से संबंधित सावधानियों एवं जानवरों को ट्रक से दूर रखने के संबंध में समझाइश दी गई । इस अवसर पर वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी  रोहित मालवीय तथा वरिष्ठ मंडल बिजली इंजीनियर सामान्य  हरीश रंजन भी उपस्थित थे ।  कोटा मंडल के 35 से अधिक समपार फाटकों पर जाकर रेलवे अधिकारियों एवं पर्यवेक्षकों द्वारा रेलवे उपयोगकर्ताओं को परामर्श दिया गया ।  इन दिनों बड़ी संख्या में लोग हेडफोन का प्रयोग करते हैं या फोन पर बात करते हुए राह में चलते हैं ।

 

रेल पटरियों पर दुर्घटनाओं का यह भी एक बड़ा कारण बन गया है जिससे लोग असमय ही रेल दुर्घटना के शिकार हो रहे हैं । इस संबंध में आम जनता को जागरूक करने हेतु रेलवे के संरक्षा, इंजीनियरिंग, परिचालन एवं रेल सुरक्षा बल विभागों के अधिकारियों एवं पर्यवेक्षकों द्वारा विभिन्न समपार फाटकों पर,  पैट्रोल पंपों पर एवं समपार फाटक के आसपास के स्थलों पर  रेल प्रशासन द्वारा 1000 से अधिक पम्फलेट वितरित कराए गए ।  सभी लोगों से अपील है कि पटरियों के आसपास हेडफोन या ईयरफोन का उपयोग ना करें और पटरियों के आस पास मोबाइल फोन के उपयोग से भी परहेज़ करें । रेल प्रशासन द्वारा इस अवसर पर रेल यात्रियों को संचार माध्यमों से सुरक्षा संदेश भी भेजे गए । जिसमें अनुरोध किया गया कि कभी भी बंद समपार फाटक के नीचे से पार करने की कोशिश ना करें ।  मानव जीवन अनमोल है इसे जोखिम  में ना डालें ।
You might also like