हटाए गए ठेका कर्मी न्याय के लिए 41 दिन से धरने पर

खेतड़ी नगर (ईश्वर अवाना)। हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड की सहायक कंपनी द्वारा हटाए गए 13 ठेका कर्मी कोलिहान खदान के मुख्य रास्ते पर 41 दिन से अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे हुए है। लेकिन ठेका कर्मियों की मांगों पर अभी तक कोई सुनवाई नहीं हो रही। ठेका कर्मी हरीश मिश्रा ने बताया कि केसीसी प्रोजेक्ट के अधिन कार्य कर रही ठेका कंपनी एमएमपीएल ने अनुबंधित कंपनी द्वारा 49 श्रमिकों में से 13 स्थानीय श्रमिकों को बिना किसी उचित कारण के दिनांक 23 अगस्त 2020 को विशिष्ट अनुबंध सेवा का नोटिस देकर 13 स्थानीय श्रमिकों की सेवाएं समाप्त कर दी। इस संबंध में हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड व अनुबंधित कंपनी से बार-बार नियुक्ति देने के लिए अनुरोध किया गया, लेकिन कंपनी द्वारा हटाए गए श्रमिकों को आज तक नहीं रखा। बेरोजगार श्रमिकों के हक अधिकारों को लेकर उक्त कंपनी में कार्य पर रखने की मांग करते हुए ठेका कर्मियों ने उपखंड अधिकारी को भी ज्ञापन दिया था लेकिन मांग पुरी नहीं होने के कारण ठेका कर्मियों को धरने का सहारा लेना पड़ा।

ठेका कर्मियों ने बताया कि एमएमपीएल के उच्च अधिकारी अपने चेहतो को फायदा देने के लिए उन्हें कार्य पर नहीं रख रहे जबकी सभी कर्मचारी दस-बारह साल से इसी ठेका कंपनी में कार्य कर रहे थे। धरने पर बैठे ठेका कर्मियों ने बताया कि 41 दिनों से अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे हुए है लेकिन आज तक उनकी कोई सुनवाई नही हुई। उन्होंने बताया कि करीब दो साल से घर पर बगैर रोजगार के बैठे हुए है। जल्द ही कोई समाधान नहीं निकला तो भूखे मरने की नौबत आ जाएगी। उन्होंने बताया कि रोजगार खत्म होने के कारण घर में खाने के भी लाले पड़ रहे है ऊपर से अगले माह बच्चों की स्कूल भी खुल जाएगी जिनकी फीस की चिंता अभी से सताने लगी है। उन्होंने बताया कि ठेका कंपनी के आलाधिकारी तो मजदूरों की सुनने को तैयार नहीं है लेकिन स्थानिय जनप्रतिनिधि व प्रशासन भी कोई सुध नहीं ले रहा। ठेका कर्मियों ने सीएम सलाहकार डॉ जितेंद्रसिंह, ठेका कंपनी, केसीसी प्रशासन व स्थानिय प्रशासन से मांग कर रहे है की उन्हे न्याय दिला कर रोजगार दिलवाया जाए। धरना स्थल पर रूपचंद सैनी, शिवलाल सैनी, विनोद जाजोरिया, हरीश मिश्रा, नरेश सैनी, राजेश गुर्जर आदि ठेका कर्मी बैठे है।

You might also like
You cannot print contents of this website.