राष्ट्रव्यापी आह्वान पर धरनार्थियों ने तीनों काले कानूनों की होली जलाई

बुहाना (सुरेंद्र डैला)। तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से जारी राष्ट्रव्यापी संघर्ष में साथ देने के लिए बुहाना तहसील के सामने अखिल भारतीय किसान महासभा की और से जारी अनिश्चितकालीन धरना बुधवार 24 वें दिन भी जारी रहा। धरना स्थल पर किसानों ने क्रमिक अनशन भी किया। संयुक्त किसान मोर्चा के राष्ट्रव्यापी आह्वान पर धरनार्थियों ने तीनों काले कानूनों की होली भी जलाई। धरनार्थियों को संबोधित करते हुए अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव कामरेड रामचन्द्र कुलहरि ने कहा कि किसानों का राष्ट्रव्यापी ऐतिहासिक संघर्ष आज जीवन मरण का सवाल बनाते हुए एक निर्णायक मोड़ पर पंहुच गया है। दिल्ली को चारों तरफ से घेरे लाखों किसान आज किसी भी किस्म के कमेटियों के मकङजाल में फंसने वाले नहीं हैं कारपोरेट गुलामी के दस्तावेज रुपी इन कानूनों को रद्द करवाये बिना हिलेंगे नहीं।

कामरेड कुलहरि ने आह्वान किया कि शाहजहांपुर बोर्डर पर व 18 जनवरी की किसानों की बुहाना रैली व 26 जनवरी को दिल्ली की ट्रेक्टर रैली में भाग लेने ज्यादा से ज्यादा संख्या में पंहुचे। धरने को अखिल भारतीय किसान महासभा के जिला अध्यक्ष कामरेड ओमप्रकाश झारोङा, प्रखंड अध्यक्ष कामरेड रामकुमार यादव, जिला उपाध्यक्ष कामरेड सूरजभान सिंह, कामरेड रामलाल कुमावत, कामरेड रामेश्वर मैनाना, कामरेड हरीसिंह वेदी, इंकलाबी नौजवान सभा के कामरेड वासुदेव शर्मा, अशोक नेहरा, महावीर नेहरा, रंगलाल, ईश्वर यादव, राजपाल सिंह, विक्रम यादव, राधेश्याम यादव, सूरजभान, अशोक कुमार, लालाराम जांगिड़, जसवीर, हीरा सिंह आदि ने संबोधित किया।

You might also like