विरोध: समायोजित शिक्षाकर्मी 15 को उपवास कर देंगे सांकेतिक धरना

सुप्रीम कोर्ट का फैसला लागू नहीं कर रही राज्य सरकार

चूरू (पीयूष शर्मा). राजस्थान समायोजित शिक्षाकर्मी संघ राजस्थान से जुड़े समायोजित शिक्षाकर्मी आगामी 15 जनवरी को सुबह 11 से दोपहर तीन बजे तक कलक्टे्रट के आगे सरकार के विरोध में उपवास कर सांकेतिक धरना देंगे।

संघ के प्रदेश संयोजक अजय पंवार ने बताया कि राजस्थान सरकार ने उच्चतम न्यायालय के 2011 में अनुदानित संस्थाओं से राजकीय विद्यालयों और महाविद्यालयों में पदस्थापित समायोजित कार्मिकों के पक्ष में पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय के फैसले को अब तक लागू नहीं किया है। प्रांतीय कार्यकारिणी के आह्वान पर राज्य सरकार की इस मनमानी का विरोध व्यक्त करते हुए सांकेतिक उपवास व धरना दिया जाएगा। बाद में कलक्टर को मुख्यमंत्री, उच्च शिक्षा मंत्री, शिक्षा मंत्री, तकनीकी शिक्षा मंत्री व संस्कृत शिक्षा मंत्री के नाम ज्ञापन दिया जाएगा।

प्रदेश संयोजक पंवार ने बताया कि राज्य सरकार की हठधर्मिता व संवेदनहीनता से आक्रोशित समायोजित शिक्षाकर्मी आंदोलन के लिए मजबूर हुए हैं। राजस्थान सरकार को विभिन्न माध्यमों व मंचों से पुरानी पेंशन लागू करने के लिए कई बार निवेदन किया गया है। मगर अब तक राजस्थान सरकार ने उच्चतम न्यायालय के आदेश की पालना नहीं की है। आंदोलन के अगले चरण में 30 जनवरी से शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा के गृह जिले सीकर से प्रदेश स्तरीय आंदोलन का आगाज किया जाएगा। यहां प्रस्तावित क्रमिक अनशन में राजस्थान के सभी जिलों से समायोजित शिक्षाकर्मी भाग लेंगे।

You might also like