ऑक्सीजन प्लांट निरीक्षण में कंप्रेसर मशीनों का संचालन सही नहीं पाया

खेतड़ी (ईश्वर अवाना)। चिकित्सा विभाग के अधिकारियों ने बुधवार को राजकीय अजीत अस्पताल परिसर में बने ऑक्सीजन प्लांट का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने प्लांट में अधूरा कार्य होने पर नाराजगी जताते हुए कार्य करने वाली संबंधित फर्म को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। बीसीएमओ डॉ हरीश यादव ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से राजकीय अजीत अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट का निर्माण कराने की स्वीकृति दी गई थी। जिस पर सरकार द्वारा अधिकृत की गई फर्म को ऑक्सीजन प्लांट बनाकर व पूर्ण रुप से संचालित कर चिकित्सा विभाग को सुपुर्द करने के निर्देश दिए थे। इसके बावजूद ऑक्सीजन प्लांट तो बना दिया, लेकिन अभी तक अस्पताल में पूर्ण रूप से सप्लाई लाइन का कार्य भी नहीं हुआ और ऑक्सीजन प्लांट से लगी मशीनों द्वारा ऑक्सीजन बनाने का कार्य भी अधूरा है। सीएमएचओ के निर्देश पर ऑक्सीजन प्लांट के निरीक्षण कर मॉक ड्रिल करने के निर्देश दिए गए थे। ऑक्सीजन प्लांट की निरीक्षण में मॉक ड्रिल के दौरान जब प्लांट में ऑक्सीजन बनाने की प्रक्रिया को देखा गया तो प्लांट में लगाए गए कंप्रेसर मशीनों का संचालन सही तरीके से नहीं पाया गया।

 

इसके अलावा मशीनों का सही तरीके से सेटिंग नहीं करने के कारण ऑक्सीजन भी सप्लाई नहीं हो पा रही थी। इस संबंध में प्लांट का कार्य करने वाली संबंधित फर्म को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं। बीसीएमओ डॉ यादव ने बताया कि मॉक ड्रिल के दौरान हुई कार्रवाई का विवरण उच्च अधिकारियों को भेजा जाएगा और उनके दिशा निर्देश पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। जानकारी के अनुसार कोरोना की तीसरी लहर के दौरान देश में ऑक्सीजन की काफी कमी खली थी। जिसके चलते राज्य सरकार ने प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने की स्वीकृति दी थी। कोरोना की लहर तो आकर चली गई लेकिन ऑक्सीजन प्लांटों का अभी तक संचालन पूर्ण रूप से नहीं हो पाया है और मरीजों को बैड के सहारे मिलने वाली
ऑक्सीजन अभी तक नहीं मिल पा रही है। इस दौरान बीसीएमओ डॉ हरीश यादव ने डॉ अनिल जांगिड़ से ऑक्सीजन प्लांट के बारे में जानकारी लेकर इसके संचालन को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इस मौके पर पीएमओ डॉ संजय कुमार सैनी, आरआरटी टीम प्रभारी डॉ महेंद्र सैनी, डॉ अक्षय शर्मा, मनोज कुमार सैनी, प्रदीप कुमार, विकास जांगिड़ आदि मौजूद थे।
You might also like
You cannot print contents of this website.