सम्पत्ति विवाद में महिला पर तेजाब डालने की घटना निकली झूठी साथ काम करने वाले प्रेमी को विश्वास दिलाने के लिये महिला ने ही रच डाली

भरतपुर (हिन्द ब्यूरो)। सम्पत्ति विवाद में भतीजो द्वारा महिला के ऊपर तेजाब फेंकने की घटना पुलिस जांच में झुठी पाई गई। महिला ने अपने प्रेमी का विश्वास जीतने के लिये झूठे नाटक की रचना की थी। पुलिस ने महिला को हिरासत में ले लिया है। अब उस पर आजीवन कारावास से सम्बंधित आरोपों का झूठा मुकदमा दर्ज कराने की कार्रवाई की जा रही है।

एसपी देवेंद्र कुमार विश्नोई ने बताया कि मूलतः नगला मांझी थाना कुम्हेर हाल रणजीत नगर थाना कोतवाली निवासी बेवा रेखा यादव (31) ने भरतपुर के आरबीएम अस्पताल में पुलिस को पर्चा बयान दिया कि वह अपने पुत्र मयंक को 7 जून सुबह 10 बजे के करीब दिखाने हॉस्पिटल आ रही थी, सिवाईंच स्कूल के पास बाईक पर आये उसके जेठ के लड़के विक्रम व प्रेम सिंह पुत्र होती लाल, राम पुत्र महेंद्र व जितेंद्र पुत्र पूरन यादव उस पर तेजाब फेंक कर भाग गए। इससे पहले 31 मई को उन्होंने 2 लाख रुपये की मांग की थी, नही देने पर डॉ सुदीप गुप्ता जैसी घटना की धमकी दी। इस पर मुकदमा दर्ज कर कोतवाली पुलिस ने तुरन्त कार्रवाई करते हुए नामजद चारो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

एसपी विश्नोई ने बताया कि दौराने अनुसंधान घटनास्थल का निरीक्षण किया गया। घटनास्थल के आस पास लगे अभय कमाण्ड कन्ट्रोल रूम से अटैच तथा प्राइवेट सीसीटीवी कैमरो के फुटेजों को देखा गया व पूछताछ की गई। घटना के समय आरोपितों की टावर लोकेशन ली गई तो जीतेन्द्र की लोकेशन शिप्रा पथ जयपुर, प्रेम सिंह की कुम्हेरगेट रोड, राम सिंह की कुम्हेर एवं विक्रम की कसोदा कंजोली इलाके की आई। शक होने पर महिला व उसके पुत्र मयंक से अलग-अलग पूछताछ की गई तो उसने सारा राज उगल दिया।

जांच में सामने आया कि महिला का अफेयर उसके साथ रस्तोगी अस्पताल मे नर्सिंग स्टाफ अभिषेक शर्मा के साथ चल रहा था। अभिषेक को शक था कि रेखा का अफेयर उसके जेठ के लड़कों के साथ भी है। जिसका वह रेखा से बार-बार जिक्र करता। प्रेम में आसक्त रेखा ने प्रेमी अभिषेक को कॉल कर कहा कि सोमवार को तुम्हे सब पता चल जावेगा। सोमवार को बच्चे को आरबीएम अस्पताल में दिखाने के बहाने घर से निकली। स्कूटी की डिग्गी में तेजाब की बोतल रख कर बच्चे को पीछे बैठा सिवाईच स्कूल के पास पहुंची ओर बच्चे को एक तरफ खडा कर दिया। फिर तेजाब की बोतल निकाल कर अपने ऊपर डाल लिया व बच्चे को कह दिया कि ये सब ताऊ के लड़कों ने किया है। फिर अस्पताल पहुंची और पुलिस को झूठी रिपोर्ट दी।

बुधवार को एएसपी वन्दिता राणा आईपीएस, सीओ शहर सतीश वर्मा, थानाधिकारी कोतवाली रामकिशन यादव, थानाधिकारी उधोग नगर महेन्द्र राठी, अपराध सहायक कार्यालय पुलिस अधीक्षक चन्द्रप्रकाश व थाना कोतवाली टीम ने इस सनसनीखेज घटना का पर्दाफाश कर दिया।

You might also like