आईआईएम का दो दिवसीय वार्षिक समारोह और वेबिनार हुआ संपन्न

खेतड़ी (विपुल पारीक)। केसीसी के आरएंडी ऑडिटोरियम में चल रहे दो दिवसीय इंडियन इंस्टीट्यूट आफ मेटल्स के खेतड़ी नगर चेप्टर का 41 वां वार्षिक दिवस समारोह व वेबिनार का समापन सोमवार देर शाम को हुआ। समारोह की अध्यक्षता केसीसी ईकाई प्रमुख एस डे ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में पूर्व निदेशक (प्रचालन) एचसीएल सुभेंद्र नंदा, खेतड़ी नगर खंड के उपाध्यक्ष महाप्रबंधक (खदान) जीडी गुप्ता, केटीएसएस यूनियन के महामंत्री बिड़दूराम सैनी, सुमन कुमार व एस गुहा थे। 41 वां वार्षिक दिवस समारोह व वेबिनार का विषय खनन उद्योग में सतत विकास के लिए चुनौतियां था, कोविड-19 के लिए सरकारी गाईडलाईन की पालना करते हुए समापन किया गया। वेबिनार के मार्फत ने सुभेंद्र नंदा ने संबोघित करते हुए कहा कि संधारणीय विकास हेतु खनिक कंपनियों को दीर्घकालीन प्लानिंग और खनन मॉडल बनाने चाहिए ताकी इकोलॉजिकल संतुलन बना रहे साथ ही पर्यावरण को भी हानी न पहुंचे। उन्होंने सेसा-गोआ व बैलाडीला खान का उल्लेख करते हुए कहा कि वहा पर खनन मॉडल में खामियों के चलते पर्यावरण को क्षति पहुंची, खनन के पुराने तरीकों से हटकर नई सोच और नई दिशा के साथ खनन की आवश्यकता है ताकि संधारणीय प्रचालन और विकास किया जा सके। कार्यक्रम के अध्यक्षता कर रहे केसीसी ईकाई प्रमुख एस डे ने कहा कि खनन का महत्वपुर्ण मुद्दा है। धरती मां ने जो हमारे लिए प्रार्कतिक सम्पदा तोहफे के रूप में दी है, खनन के जरिय दोहन करते है, दोहन क बगैर अर्थ निती को आगे नही बढाया जा सकता। उन्होंने कहा कि हमे दोहन करते समय आने वाली पिढियों के बारे में भी सोचना चाहिए की हम उनके लिए क्या छोड़ कर जा रहे है। जिस हालत में हम धरती  मां को पाया है उससे बेहतर छोड़ रहे हे या खराब स्थिति में छोड़ कर जा रहे है। उन्होंने कहा कि वेबिनार का उदेश्य यही है की दोनों के बीच बैलेस कैसे करे यह हमारे लिए सोचने की बात है। जीडी गुप्ता ने संबोधित करते हुए कहा कि हमे समय के अनुसार बदलना होगा। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार टैलिंग निकाल रहे है उस प्रक्रिया के साथ हम आगे नही बढ सकते, हम कंसनट्रेट निकालते समय टैलिंग कम करनी होगी, टैलिंग से अन्य धातु निकालने के बारे में सोचना होगा जिससे कंपनी ज्यादा चलेगी साथ ही मुनाफा भी ज्यादा होगा। सुमन कुमार ने वेबिनार की रूप रेखा पर प्रकाश डाल। नागेश राजपुरोहित ने आभार प्रकट किया। वेबिनार के दुसरे तकनिकी सत्र में पूर्व मुख्य महाप्रबंधक (ओएनजीसी) जेएन प्रभाकरूडू्,, वरिष्ठ  भू-विज्ञानी (एमईसीएल) सयनदीप चक्रवर्ती, प्रबंध निदेशक एकेडी जियोमाईनिंग सॉल्यूशंस (ओपीसी) अरूपदास, प्रबंधक (खदान) केसीसी लोकेश गोयल व सहायक प्रबंधक (सांद्रण) केसीसी आशीष कुमार मल्लिक ने पत्रवाचन किया। संचालन नीलाभ दुबे व कौशिकी भट्टाचार्य ने किया। इस मौके पर के सिमाचलम, एसके पुरोहित, यूबी भट्ट, ऐजे खान, विपिन शर्मा, राजेश डाढेल, संजूसी सेम, मोहम्मद उस्मान, अभिषेक पारीक, केआर बैरवा, महेंद्र शर्मा, घनश्याम, मुनालाल जैदिया, आलोक, राजा आशिष, उंमग कुमार, दिपक कुमार, विनायक साहू आदि मौजूद थे।

You might also like