किसान विरोधी तीनों कृषि कानूनों की होली जलाई

बुहाना (सुरेंद्र डैला)। संपूर्ण क्रांति दिवस पर पिछले वर्ष मोदी सरकार द्वारा कृषि कानूनों के अध्यादेश लागू करने वाले दिवस पर संयुक्त किसान मोर्चा के राष्ट्रव्यापी आह्वान पर शनिवार को अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव कामरेड रामचंद्र कुलहरि के नेतृत्व में सिंघाना पंचायत समिति कार्यालय के सामने लॉकडाउन के नियमों की पालना करते हुए किसान विरोधी तीनों कृषि कानूनों की होली जलाई। इस अवसर पर अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव कामरेड रामचंद्र कुलहरि ने कहा कि 5 जून 1974 में पटना के गांधी मैदान में विशाल सभा में जयप्रकाश नारायण के संपूर्ण क्रांति दिवस के नारे व विश्व पर्यावरण दिवस की वजह से विशेष महत्व का दिवस है लेकिन पिछले वर्ष 5 जून को तीनों काले कृषि कानूनों के लिए अध्यादेश लागू कर देश की खेती को कार्पोरेट के हाथों मे सौंपने का काम कर किसानों मजदूरों व आम जनता की रोजी रोटी पर सबसे बङा हमला बोला है।

 

 

खनिज संपदा के दोहनपन व बिजली के नाम पर पर्यावरण को तहस नहस किया जा रहा है विरोध करने वालों को राष्ट्रद्रोही घोषित किया जा रहा है। मोदी सरकार की हठधर्मिता के खिलाफ तीनों काले कानूनों के रद्द होने तक संघर्ष जारी रहेगा। काले कानूनों के प्रतियों की होली जलाने में कामरेड अशोक नेहरा, कामरेड जसवीर लाबी जाट, इंकलाबी नौजवान सभा के जिला संयोजक कामरेड रविंद्र पायल, कामरेड वासुदेव शर्मा व मोहित शर्मा शामिल थे।

You might also like