ससुर ने पुत्रवधू के साथ जबरदस्ती करने का किया प्रयास

रतनगढ़ (नवरतन वर्मा)। सुनिता पत्नी देवकरण निवासी ग्राम रतनसरा तहसील रतनगढ़ हाल निवासी वार्ड संख्या 31 रावतसर जिला हनुमानगढ़ ने प्राथमिकी दर्ज करवाई कि मेरी शादी सनï् 2003 में हुई थी और मेरे 2 संतान है। शादी के बाद से ही मेरा पति मुझे तंग व परेशान करता था व वो आदतन शराबी है। जिसके चलते मेरे साथ आये दिन मारपीट व झगड़ा होता रहता था। गत वर्ष कोरोना महामारी के चलते लगे लॉकडाउन में मुझे व मेरे बच्चों को भुखे मरने की नौबत आ गई व पति व ससुराल वालों का उत्पीडऩ बढ़ता गया। जिसके चलते सामाजिक पंचायत के बाद मैंने मेरे पति से अलग रहना इस शर्त पर स्वीकार किया कि वो मुझे रतनसरा में अलग मकान बनाकर देंगे व 8000 रूपये प्रतिमाह भरण पोषण का देंगे और इसकी लिखा पढ़ी भी हुई थी। इस कार्यवाई के बाद मैं मेरे पिहर चली गई। हुए समझौते के बाद आज तक मेरे ससुराल वालों ने एक भी रूपया भरण पोषण नहीं दिया जिस पर मैं गत 24 फरवरी 2021 को मेरे पीहर से ससुराल रतनसरा मेरे छोटे पुत्र 12 वर्षीय हर्ष के साथ आई और भरण पोषण के रूपये मांगे व रतनसरा में रहने की व्यवस्था करने का कहा और रात्रि को रतनसरा में ही जिस मकान में अलग रह रही थी, उसमें रूकी हुई थी, रात्रि को सोने के बाद अचानक मेरा ससुर मेरे पास आकर खाट पर लेट गया और मुझसे जबरदस्ती खोटा काम करने का प्रयास किया। मैंने हो हल्ला मचाया तो मेरा ससुर सुगनाराम ने भागने का प्रयास किया। वहीं हल्ला सुनकर अड़ौस पड़ौस के लोग भी आ गए। मैंने मेरे ससुर को कमरे में बन्द कर दिया। सुबह मेरे जेठ, देवर आये और अपने पिता को जबरदस्ती कमरें में से निकालकर ले गये व मुझे धमकियां देते हुए कहा कि तेरे से होता है वो कर ले। पुलिस ने पीडि़ता की रिपोर्ट पर प्राथमिकी दर्ज की, प्रकरण की जांच आरपीएस (प्रशिक्षु) कैलाशकंवर कर रही है।

You might also like