बाबा श्याम के वार्षिक मेले के  पूर्व उमड़ रहा भक्तों का सैलाब

खाटूश्यामजी (सीताराम मर्मी)। कलयुग के अराध्य विश्व प्रसिद्ध बाबा श्याम के वार्षिक लक्खी फाल्गुनी मेले से पूर्व ही श्याम भक्तों का सैलाब बाबा के दर पर शुरू हो गया है। जब की राज्य में कोरोनाकाल के मरीज कम होने के बाद अचानक एक बार फिर से बढ़ता जा रहा है।एसे में जयपुर से लेकर खाटू धाम तक श्याम पदयात्री हाथों में केसरिया निशान लेकर बाबा श्याम के जयकारों के साथ लखदातार के दरबार तक पहुंच रहे हैं।वही लम्बे अन्तराल के बाद  नए संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है।इस दौरान बाबा श्याम का वार्षिक लक्खी फाल्गुन मेला 17 से 26 मार्च तक आयोजित होने जारहा है।लेकिन वार्षिक मेले से पूर्व ही खाटूधाम में लाखों की तादाद में श्याम भक्तों का रैला पहुंच रहा है।तेज गर्मी भी श्याम भक्तों को रोक पाने में विफल हो रही है लेकिन आस्था के इस सैलाब के चलते कोविड-19 की गाइडलाइन की भी धज्जियां उड़ती नहर आरही है।वहीं प्रशासन की भी मोन मुख सहमति  देखी जा सकती है। क्योंकि फिलहाल अभी प्रशासन की तरफ से कोरोना जांच की कोई व्यवस्था नहीं है जिसके चलते रजिस्ट्रेशन के अलावा हजारों श्याम भक्त बाबा श्याम के दर्शन कर रहे हैं। स्थानीय लोगों में यह डर सता रहा है कि कहीं किसी से कोरोना सक्रमित से कस्बे में कोरोनावायरस न फैल जाये और मेले पर पाबंदी न लग जाए।

जिला प्रशासन की दो बैठक होने के बावजूद भी मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की जांच की कोई व्यवस्था नहीं कर सके जबकि बैठक के दौरान निर्णय हुआ था कि केरल, दिल्ली महाराष्ट्र और गुजरात से आने वाले श्याम श्रद्धालुओं को 72 घंटे पहले की कोविड-19 रिर्पोट लेकर आने के बाद ही बाबा श्याम के दर्शन होंगे लेकिन खाटूश्यामजी में भी कोई जांच की व्यवस्था नहीं अब कब होगी। बाबा श्याम के भरोसे ही श्रद्धालु मंदिर में आ रहे है और जा रहे हैं।बैठक के दौरान यह भी निर्णय हुआ था कि स्थानीय दुकानदारों हाथ ठेला व्यापारियों के भी मेले से पहले कोरोना के सैंपल लेकर उनकी जांच के बारे में निर्णय हुआ था लेकिन प्रशासन ने अब तक एक भी दुकानदार या हाथ ठेला व्यापारियों के ने तो सैंपल लिए हैं और नहीं दुकानदार  कोरोना की गाइडलाइन का पालना कर रहे हैं आखिर कहीं ना कहीं लोगों को यह डर भी सता रहा है कि बाबा श्याम का वार्षिक लक्की मेले को ऐन वक्त पर प्रशासन को रद्द करना न पड़ जाए।राज्य में मरीजों की संख्या में अब बढ़ोतरी का सिलसिला काफी तेजी से शुरू हो गया हैं।वही कोरोना के नए स्ट्रेन के कारण संक्रमण बढ़ने लगा है।राज्य सरकार व जिला प्रशासन के आदेशों की कही भी पालना नहीं की जारही है। जबकी राज्य सरकार ने केरल व महाराष्ट्र से आने वाले लोगों पर विशेष निगरानी रखने के निर्देश दिये हुए हैं पर उन निर्देशों की कही भी पालना नहीं हो रही।बाबा श्याम के दर पर महाराष्ट्र के मुम्बई से बड़ी संख्या में लोग पहुंच बाबा के दीदार कर के जारहे है। या तो प्रशासन व श्री श्याम मंदिर कमेटी बड़े विस्फोट का इन्तजार कर रहे हैं। विस्फोट होने से पहले कोरोनाकाल की गाइडलाइन व सोशल डिस्टॆंसिंग की पालना पर गोर नहीं किया गया तो हालात दर से बदतर हो सकते हैं। बाबा के दर्शन लाइनों,मुख्य बाजार,श्याम दर्शन मार्गों पर कही भी लोग बीना मास्क,सोशल डिस्टॆंसिंग की कही भी पालना करते नजर नहीं आ रहे हैं। प्रशासन ने अगर सख्ती नहीं बरती तो हालत दूसरे हो सकते हैं।

You might also like