धार्मिक आस्था पर चोट करने वाले भूमाफिया पर कार्र्रवाई की मांग

चूरू (पीयूष दाधीच). शहर के विप्र समाज ने सोमवार को कलक्टर व एसपी को को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम ज्ञापन सौंपकर धार्मिक आस्था पर चोट करने वाले भूमाफिया पर कार्रवाई करने की मांग की।

ज्ञापन में प्रतिनिधिमंडल ने लिखा कि भूमाफिया ने धार्मिक आस्था के प्रतीक खाखी बाबा बगीची शिवमन्दिर में कब्जा करने की नीयत से तोडफ़ोड़ कर जान माल को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की है। वार्ड 56 स्थित ऐतिहासिक खाखी बाबा बगीची शिवमन्दिर को कुछ अनाधिकृत व्यक्तियों ने साजिश कर कुछ भू माफिया के साथ मिलकर इस सार्वजनिक उपयोग में आने वाले शिव मन्दिर को बेचने का कुत्सित प्रयास किया है ।

इसी साजिश के तहत कथित भू माफिया ने मन्दिर में भगवान की मूर्तियों को खंडित करने का प्रयास किया। मन्दिर में पूजा अर्चना करने वाले पुजारी परिवार को जान से मारने की धमकी दी गई। पुजारी परिवार की ओर से इस संबंध में 24 सितंबर 2021 को पुलिस थाना चूरू में एक नामजद एफआईआर भी दर्ज करवाई गई थी। मगर अब तक पुलिस की ओर से अब तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई है।

उप पंजीयक खुद बता रहे 80 वर्ष पुराना मंदिर

ज्ञापन में लिखा गया कि उप पंजीयक चूरू की ओर से गत पांच जनवरी को कलक्टर को अवगत करवाया गया है कि उक्त भूमि में शिव मन्दिर स्थापित है। 80 वर्ष पुराने भवन के दरवाजे के दांयी तरफ साक्षी महाराज विराजमान है। खाखी बाबा की समाधि बनी हुई है । उप पंजीयक चूरू की रिपोर्ट से साबित है कि यह भूमि व मन्दिर सार्वजनिक उपयोग में आ रहा है। जनआस्था का प्रतीक है। इस मन्दिर परिसर में सर्व समाज के दिवंगत व्यक्तियों की पूजा कार्य किए जाते हैं। जिन नामजद भू-माफिया ने भगवान शिव की प्रतिमा को नुकसान पहुँचाकर समाज की भावनाओं को आहत किया है। उनके विरूद्ध तत्काल कानूनी कार्रवाई की जाए। ज्ञापन देने वालों में पूर्व सभापति विजय शर्मा, कैलाशचंद्र हारित, फतेहचंद सोती, सुधाकर सहल, हनुमान प्रसाद माटोलिया, अभिषेक चोटिया, मनीष हारित, दिनेश बावलिया, अशोक शर्मा, देवराज पुरोहित, अशोक शर्मा, महेंद्र चौबे, संदीप पाटिल, मुकेश ओझा, महेश शर्मा, कृष्णकांत महर्षि, खाकी बाबा बगीची पुजारी ऋषि हारित, मनोज जोशी व परमेश्वर तिवाड़ी आदि शामिल थे।

You might also like
You cannot print contents of this website.