तुलाई केन्द्र पर राजावत के धरने के बाद हुआ फैसला

कोटा (योगेश जोशी)। समर्थन मूल्य पर गेहूं तुलाई में किसानों को लगातार आ रही परेशानी को देखते हुए पूर्व संसदीय सचिव भवानी सिंह राजावत आज अपने समर्थकों के साथ भामाशाह मण्डी जा धमके जहां उन्होंने एफसीआई के तुलाई कांटे पर पहुंचकर अधिकारियों को लताड़ पिलाते हुए कहा कि हाड़ौती में गेहूं की बम्पर पैदावार हुई है लेकिन तुलाई के लिए किसान मारा मारा फिर रहा है, इस अव्यवस्था को तत्काल सुधारा जाये वहीं 26 लाख मीट्रिक टन उत्पादन की तुलना में केवल 6 लाख मीट्रिक टन गेहूं की समर्थन मूल्य पर खरीदा जा रहा है, किसानों को नाममात्र के ही टोकन दिये जा रहे हैं जिनसे मुश्किल से प्रतिदिन मात्र 10-15 हजार क्विंटल गेहूं ही तुल पा रहा है। दूसरी ओर कंकर की शिकायत पर किसानों का गेहूं नापास किया जा रहा है। उन्होंने अधिकारियों केा अल्टीमेटम देते हुए कहा कि जब तक गेहूं की तुलाई क्षमता और लक्ष्य नहीं बढ़ाया जायेगा वे यहीं पर धरने पर बैठेंगे। उसके बाद राजावत अपने समर्थकों के साथ तुलाई केन्द्र पर ही धरने पर बैठ गये। राजावत के धरने की जानकारी मिलते ही क्षेत्रीय प्रबंधक निपुण त्रिखा तुरंत मण्डी में पहुंचे और अन्य अधिकारियों के साथ राजावत से वार्ता की।
 
पूर्व विधायक राजावत ने क्षेत्रीय प्रबंधक त्रिखा को कहा कि भारत सरकार जब पंजाब, हरियाणा यहां तक कि गंगानगर और हनुमानगढ़ में उपज का एक एक दाना समर्थन मूल्य पर खरीदती है तो हाड़ौती के किसानों के साथ ही सौतेला बरताव क्यों हो रहा है। सम्भाग में 26 लाख मीट्रिक टन के उत्पादन की तुलना में मात्र 6 लाख मीट्रिक टन गेहूं ही समर्थन मूल्य पर खरीदने का लक्ष्य तय किया गया है इसको बढ़ाकर कम से कम 13 लाख मीट्रिक टन किया जाना चाहिए, वे इसके लिए उच्चाधिकारियों से बात कर शीघ्र लक्ष्य बढ़वायें, साथ ही मुट्ठीभर किसानों को आॅनलाईन टाॅकन जारी किये जा रहे हैं जिससे 6 लाख मीट्रिक टन का मामूली का लक्ष्य एक साल में भी पूरा नहीं हो पायेगा। इस सिस्टम को तत्काल रद्द कर गेहूं आॅफ लाईन तौलना शुरू कर किया जाये और प्राकृतिक प्रकोप असमय बरसात, ओलावृष्टि के कारण यदि कहीं गेहूं बदरंग हो गया है या उसमें कंकर आ रहे हैं तो भी किसान का गेहूं एफसीआई को तौल लेना चाहिए लेकिन उसका गेहूं नापास कर 3-3 दिन तक ट्रोलियां मण्डी में खड़ी कर रखी है जो उचित नहीं है।
 
क्षेत्रीय प्रबंधक त्रिखा ने राजावत को भरोसा दिलवाया कि खरीद का लक्ष्य बढ़वाने के लिए वे उच्चाधिकारियों से शीघ्र ही वार्ता करेंगे और आज से ही प्रतिदिन 25 हजार क्विंटल गेहूं की तुलाई शुरू कर देंगे जिसे आने वाले दिनों में बढ़ाकर 50 हजार क्विंटल प्रतिदिन तक पहुंचा देंगे, साथ ही खराबे वाले गेहूं को मामूली कम दाम पर खरीदने की कोशिश करेंगे। उनके द्वारा पूरा भरोसा दिलवाने के बाद राजावत समर्थकों व किसानों के साथ धरने से उठ गए। राजावत के साथ धरना देने वालों में भामाशाह मण्डी के पूर्व निदेशक गोपेश मालव,पूर्व महामंत्री देवेन्द्र नागर, किसान मोर्चा जिला महामंत्री हुसैन देशवाली, जिला उपाध्यक्ष महावीर सुमन, बजरंग दल जिला संयोजक रमेश राठौर, रमेश मीणा, युवा किसान नेता गिरिराज मीणा, मुरारी मीणा, दीपक मीणा आदि प्रमुख थे।
You might also like