विद्या से ही जीवन की पूर्णता, इसका उपयोग समाजहित में करें – घनश्यामाचार्य महाराज

कोटा (योगेश जोशी) । श्री झालरिया पीठाधिपति जगद्गुरू रामानुजाचार्य स्वामी जी श्री घनश्यामाचार्य जी महाराज ने कोटा प्रवास के दौरान विद्यार्थियों को संस्कारों की सीख दी। एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के जवाहर नगर स्थित समरस सभागार में कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम के दौरान एलन द्वारा महाराज का अभिनन्दन किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत एलन के निदेशक गोविन्द माहेश्वरी ने ‘इतनी शक्ति हमें देना दाता’ प्रार्थना के साथ कार्यक्रम की शुरुआत की। इसके बाद ‘गुरूराज के चरणों का हम वंदन करते हैं’ भजन के साथ स्वामी जी महाराज का अभिवादन किया।

इस अवसर पर स्वामी जी महाराज ने कहाकि जीवन में सबसे बड़ा दान विद्या को होता है। विद्या से ही व्यक्ति में पूर्णता आती है। यही हमें दूसरे प्राणियों से अलग बनाती है। शक्ति का अहसास और भक्ति की जरूरत समझाती है। विद्या समाज और राष्ट्र के प्रति हमारे कर्तव्यों के लिए जागृत करती है। हमें खुद के लिए ही नहीं दूसरों के लिए भी जीना सीखाती है। खाना-पीना, सोना-जागना तो पशु और इंसान दोनों करते हैं लेकिन जब उसमें संस्कार आ जाते हैं, तो उसका महत्व बदल जाता है।

महाराज ने कहा कि आज एलन को दूसरे संस्थानों से अलग क्यों माना जाता है, क्यों विद्यार्थी यहां आकर अच्छा महसूस करते हैं। यहां पढ़ रहे बच्चों के अभिभावकों को भी बहुत अच्छा लगता है, क्योंकि यहां शिक्षा के साथ-साथ संस्कारों का भी ध्यान रखा जाता है। विद्यार्थियों के साथ ईमानदारी से मेहनत की जाती है। आप लोग बहुत दूर-दूर से यहां शिक्षा लेने आ रहे हैं। माता-पिता की अपेक्षाएं हैंं, आप लोगों के सपने भी हैं। ईमानदारी के साथ प्रयास करें। लक्ष्य को साधने के लिए दिन-रात जुटे रहें और जब पढ़ाई हो जाए तो परिवार, समाज और राष्ट्र के लिए जीवन जीने का संकल्प भी लें। समाज हित में राष्ट्रहित में योगदान देने का संकल्प लें। कार्यक्रम में स्टूडेंट्स, पेरेन्ट्स व फैकल्टीज शामिल हुए। इस दौरान मातृश्री कृष्णा देवी मानधना, एलन के निदेशक राजेश माहेश्वरी, नवीन माहेश्वरी एवं बृजेश माहेश्वरी मौजूद रहे। कार्यक्रम के बाद विद्यार्थियों व फैकल्टीज ने गुरू महाराज के चरणों में वंदन कर उनका आशीर्वाद प्राप्त किया।

गुरू की निंदा करने वाले का पतन होता है

स्वामी जी महाराज ने विद्यार्थियों से कहा कि गुरू का सम्मान करोगे तो अपने आप विद्या बढ़ेगी। गुरू की निंदा करने वाला कभी तरक्की नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि छात्रों को पंच लक्षणों का ध्यान रखना होगा। काग चेष्टा, बको ध्यानं, स्वान निद्रा तथैव च। अल्पहारी, गृहत्यागी, विद्यार्थी पंच लक्षणं।। अर्थात एक विद्यार्थी को कौए की तरह चेष्टावान और बगुले की तरह एकाग्र होना चाहिए। श्वान के समान संतुलित नींद लेनी होगी और सात्विक आहार लेना चाहिए और घर का मोह त्यागते हुए लक्ष्य के प्रति समर्पित हो जाएं। सात्विक आहार के साथ जो विद्या ग्रहण करते हैं, वही लंबे समय तक आपके पास रहती है। कई विद्यार्थी बोलते हैं कि पढ़ा हुआ भूल जाते हैं, याददाश्त नहीं रहती। आप पढ़ाई को जितना पढ़ोगे, पढ़ाओगे, उतना ही बढ़ेगी। कभी नहीं भूलोगे। बहुत कुछ पढ़ लिया तब भी पढ़ते रहो और अपनी विद्या का सदुपयोग समाज और राष्ट्र के लिए करो।

चरित्र निर्माण में मां ही महत्वपूर्ण

महाराज की प्रातः आरती अर्चना, दर्शन इन्द्रविहार स्थित एलन मानधना परिवार के संत निवास पर हुई। इस दौरान महाराज ने कहा कि बच्चों के निर्माण में सबसे बड़ी भूमिका मां की होती है। मां संस्कार सिखाती है और पिता व्यापार सिखाते हैं। माता-पिता के संस्कारों से मिलकर ही युवा तैयार होता है। यदि इन संस्कारों में कुछ ऊंच-नीच होती है तो इसका परिणाम हमें समाज में देखने को भी मिलता है। इसलिए जरूरी है कि संस्कार अच्छे दें और यही बच्चों की सबसे बड़ी पूंजी साबित होती है।

You might also like
You cannot print contents of this website.