भीख मांगे या आत्महत्या करें, सरकार कर रही मजबूर

 

जयपुर (गोविन्द गोपाल सिंह)। मानसरोवर मेट्रो डिपो के समीप स्थित रावण का पुतला सहित अन्य फर्नीचर बनाकर जीवन यापन करने वाले घुमंतु, अर्ध घुमंतु एवम विमुक्त जाति की बस्ती में भू माफियाओं द्वारा आग लगाए जाने के लगभग बीस दिन बाद भी प्रशासन द्वारा किसी तरह की कार्यवाही नहीं करने और सब कुछ तबाह होने के बाद गर्मी और बारिश में बिना छत के आकाश के नीचे नारकीय जीवन गुजारने को मजबूर घुमंतु, अर्ध घुमंतु व विमुक्त जाति के इन बेसहारा असहाय लोगों की सरकार ने किसी तरह की सुध नहीं ली। लगभग एक हजार से अधिक लोगों के धरना–प्रदर्शन के बावजूद प्रशासन के अधिकारी खानापूर्ति में ही लगे हुए हैं। इस कारण यहां रह रहे लोगों के सामने भीख मांगने या आत्महत्या करने की नौबत आ गई है।

 

घुमंतु, अर्ध घुमंतु व विमुक्त जाति परिषद के प्रदेशाध्यक्ष रतननाथ कालबेलिया ने राजधानी जयपुर में प्रेसवार्ता की। इस दौरान उन्होंने जयपुर विकास प्राधिकरण पर इस बेशकीमती सरकारी भूमि को भू माफिया को देने की साजिश करने का आरोप लगाते हुए बताया कि यहां रहने वाले लोग विगत लगभग 45 वर्षों से यहीं पर रह रहे हैं लेकिन गत लगभग बारह वर्षों से इस भूमि पर भू माफियाओं की नजर है, जो जयपुर विकास प्राधिकरण के भ्रष्ट अधिकारियों के साथ मिलकर इसे हड़पना चाहते हैं। यही कारण है कि बस्ती में ग्यारह वर्ष पहले भी इन्हीं लोगों द्वारा आग लगाई गई थी और हाल ही में एक जून को भी इन्हीं लोगों ने बस्ती में आग लगा दी। जबकि आग लगने के बाद भूमि का आकलन करने आए एसडीएम और तहसीलदार एवं पटवारी ने इस भूमि को गैर मुमकिन आबादी एवं खातेदार जयपुर विकास प्राधिकरण को बताया है, प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए संगठन के पदाधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपकर हमने तुरंत प्रभाव से सभी परिवारों को एक लाख रुपए की नकद राहत सहायता उपलब्ध करवाने सहित अन्य समस्याओं से अवगत करवाते हुए उच्चस्तरीय अधिकारी की नियुक्ति की मांग की थी, जिसे अब तक नहीं माना गया।

 

इसके चलते महापड़ाव करना पड़ रहा है और इसके बाद भी हमारी मांगें नहीं मानी गई तो शीघ्र ही विद्याधर नगर स्टेडियम में तीन लाख से अधिक घुमंतु, अर्ध घुमंतु व विमुक्त जाति के नागरिक अपने परिवार सहित अनिश्चितकालीन पडाव डालेंगे। घुमंतू ,अर्ध घुमंतु व विमुक्त जाति परिषद के प्रदेशाध्यक्ष रतननाथ कालबेलिया ने बताया कि घुमंतू परिषद के प्रदेश उपाध्यक्ष सरवन नाथ सपेरा, प्रदेश संगठन मंत्री पूर्ण नाथ सपेरा, प्रदेश महामंत्री लोकेश सपेरा अलवर, प्रदेश महासचिव दिनेश सपेरा भीलवाड़ा, डूंगरपुर जिला अध्यक्ष कांतिलाल कालबेलिया, उदयपुर ग्रामीण जिला अध्यक्ष लक्षनाथ कालबेलिया, भीलवाड़ा जिला अध्यक्ष रमेश सपेरा, जयपुर महिला शहर अध्यक्ष रोड़ी भाई बागरिया, बांसवाड़ा जिला अध्यक्ष बादुर नाथ जोगी, बूंदी जिला अध्यक्ष रामपाल नाथ, भोपा समाज के प्रदेशाध्यक्ष राजाराम भोपा, बागरिया समाज के प्रदेशाध्यक्ष गीता भादरिया, राणा ढोली समाज के प्रदेशाध्यक्ष ललित राणा, भाट समाज के अध्यक्ष सरवन बंजारा, सिकलीगर समाज के अध्यक्ष कमल सिकलीगर, गाड़िया लोहार समाज के अध्यक्ष श्रवण गाड़िया लोहार, कलंदर समाज के प्रदेशाध्यक्ष नूर भाई कलंदर, कंजर समाज के अध्यक्ष मनोज कंजर भीलवाड़ा, मिरासी समाज के प्रदेशाध्यक्ष वागाराम मिरासी, सांसी समाज के प्रदेशाध्यक्ष ज्ञान सिंह सांसद सहित अन्य कई घुमंतु, अर्ध घुमंतु व विमुक्त समाज के जाति संगठनों के वरिष्ठ नेताओं के नेतृत्व में जयपुर में हजारों लोगों का महापड़ाव होगा।

You might also like
You cannot print contents of this website.