शाम 6 बजे तक 56.84 प्रतिशत रहा मतदान

सुजानगढ़ (अमित प्रजापत)। काफी लंबे समय तक चुनावी चर्चाओं और गरमा गर्मियों के बाद सुजानगढ़ विधानसभा का उप चुनाव शांतिपूर्वक सम्पन्न हो गया। खास बात ये रही कि इस बार मतदान का प्रतिशत करीब 13.6 प्रतिशत घट गया, जिसमें सबसे बड़ा कारण कोरोना का प्रकोप, रमजान का महीना माना जा रहा है। दो साल पहले 2018 में मतदान का प्रतिशत 70.43 प्रतिशत रहा था।

उपखंड कार्यालय से शाम 6 बजे तक मिली जानकारी के अनुसार 56.84 प्रतिशत मतदान हुआ है। सुबह से ही लोग मतदान केंद्रो पर धीमी गति से पहुंचने लगे। चूंकि कोरोना गाईड लाईन के चलते 151 मतदान केद्रों की संख्या और बढ़ाये गये और 418 मतदान केंद्रो पर 2 लाख 75 हजार 545 मतदाताओं को अपने मताधिकार का प्रयोग करना था। जिनमें से 56.84 प्रतिशत मतदाताओं ने शाम के 6 बजे तक मताधिकार का प्रयोग किया। दूसरी ओर धीमी चली मतदान प्रतिशत की रफ्तार की बात की जाये तो सात बजे शुरू हुआ मतदान 8 बजे तक 3.93 प्रतिशत, 10 बजे तक 16.80 प्रतिशत पहुंचा। जो दोपहर 12 बजे तक 29.59 प्रतिशत होकर दो बजे तक 40.97 प्रतिशत हो गया और शाम के चार बजते-बजते मतदान का प्रतिशत 48.62 प्रतिशत रहा।

भाजपा-कांग्रेस प्रत्याशियों ने किए मतदान


दूसरी ओर भाजपा प्रत्याशी खेमाराम मेघवाल ने अपनी पत्नी मनभरी देवी, जो पंचायत समिति प्रधान हैं, के साथ गांव गोपालपुरा के बूथ पर पहुंचकर सुबह नौ बजे से पहले ही मतदान कर दिया। मतदान के बाद खेमाराम मेघवाल ने भाजपा की जीत का दावा करते हुए मतदाताओं का आभार प्रकट किया।

वहीं कांग्रेस प्रत्याशी एडवोकेट मनोज मेघवाल अपनी मां केसरदेवी, चाचा भागीरथ मेघवाल व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ अपने पैतृक गांव बाघसरा पूर्वी पहुंचकर राजकीय स्कूल में बने बूथ पर मतदान किया। मतदान के बाद मनोज मेघवाल ने शीर्ष नेतृत्व सहित कांग्रेस नेताओं, कार्यकर्ताओं व मतदाताओं का सहयोग व समर्थन के लिए आभार प्रकट करते हुए कांग्रेस की जीत का दावा किया।

मतदान कार्मिक निकला कोरोना पॉजिटिव
गांव परावा में मतदान कार्मिक की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आ जाने से गांव में हडक़ंप मच गया। जानकारी के अनुसार मतदान दल का कार्मिक कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद प्रशासन ने मतदान दल की पूरी टीम को बदल दिया और फिर वोटिंग करवाई गई।

कलेक्टर, एसपी करते रहे निरीक्षण 


संवेदनशील मतदान केंद्रो की बात की जाये तो 57 में से कुल 42 की वेब कास्टिंग उपखंड कार्यालय में होती रही और बूथों पर सीधी नजर रखी गई। वहीं जिला कलेक्टर सांवरमल वर्मा, पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस ने मतदान केंद्रो पर पहुंचकर व्यवस्था व पुलिस के इंतजाम देखे। दूसरी ओर उपखंड अधिकारी मूलचंद लूणिया, तहसीलदार कार्तिकेय मीणा, नायब तहसीदार रामचंद्र गुर्जर भी मतदान कार्य में लगातार सक्रिय रहे। बूथ एप के जरिये उपखंड कार्यालय में लाईव अपडेट होते रहे। सभी मतदान स्थलों पर ग्लव्ज पर्याप्त मात्रा में रहे, जिनको पहनकर ही वोटिंग की गई। गांव ढ़ाणी धोरां में मतदान के बहिष्कार की बातों को लेकर ग्रामीणो ने प्रदर्शन किया। मूलभूत मांगों को लेकर प्रदर्शन करने वाले ग्रामीणों से तहसीलदार ने पहुंचकर समझाईश की, तब जाकर मामला शांत हुआ। वहीं मतदान सम्पन्न होने के बाद पोलिंग एजेंटो के लिए मतदान केद्रो के बाहर लगी टेबल कुर्सियों को वापस टैम्पो के जरिये टेंट ले जाया गया, तो स्टेशन रोड़ पर जाम भी लग गया।

पिंक बूथ, आदर्श मतदान केंद्र बने आकर्षण का केंद्र 
ओसवाल स्कूल में पिंक बूथ बनाकर निर्वाचन विभाग द्वारा नवाचार किया गया। बूथ को गुब्बारे आदि लगाकर सजाया गया। वहीं इस मतदान केंद्र के समस्त कार्मिक महिला ही रहीं। ओसवाल संघ भवन में आदर्श बूथ मनाया गया। जहां पर मतदाताओं के स्वागत के साथ-साथ वरिष्ठ नागरिकों के बैठने की व्यवस्थाएं भी की गई।

You might also like